दिल्ली प्रदूषण पर केजरीवाल की नई योजना

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ये योजना राजधानी के लिए सराहनीय प्रयास है मुख्यमंत्री केजरीवाल जी 5 अक्टूबर 2020 को  राजधानी को प्रदूषण मुक्त और स्वच्छ बनाने के लिए "युद्ध प्रदूषण के विरुद्ध " नाम से एक वायु-प्रदूषण विरोधी अभियान शुरू की। मुख्यमंत्री केजरीवाल जी  ने कहा कि, इस कोविड -19 महामारी के दौरान यह वायु प्रदूषण जीवन के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है क्योंकि ये दोनों ही हमारे फेफड़ों पर बहुत बुरा असर डालते है।

इस अभियान के अंतर्गत  दिल्ली शहर के सभी 13 प्रदूषण हॉटस्पॉट्स के लिए अलग-अलग योजनायें तैयार की हैं. इस अभियान  के अंतर्गत ज्यादा प्रदूषित क्षेत्रों में पेड़ों का प्रत्यारोपण, इलेक्ट्रिक वाहन को बढ़ावा और धूल पर कंट्रोल जैसे विभिन्न उपाय शामिल किये गए है।

इस अभियान की शुरुआत करते हुए, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह कहा  है कि, वायु प्रदूषण से लड़ने के लिए उनकी सरकार द्वारा उठाए गए सभी प्रदूषण-विरोधी प्रयासों की निगरानी के लिए दिल्ली में एक "वॉर रूम" बनाया जा रहा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा की है कि "ग्रीन दिल्ली" नामक एक मोबाइल ऐप भी विकसित करने का प्रयास किया जा रहा है, जो वहाँ के निवासी द्वारा प्रदूषण पैदा करने वाले कारणों को दिल्ली सरकार के नजर में लाने में हेल्प करेगा. ये गतिविधियां किसी भी कारण जैसे कचरा जलाने, औद्योगिक प्रदूषण आदि से रिलेटिव हो सकती हैं. इन शिकायतों का दी गई समय-सीमा में निपटारा किया जाएगा। मुख्यमंत्री जी को शिकायत निस्तारण की रोज की रिपोर्ट दी जायेगी.

 धूल उड़ने के कारणों को कम करने के लिए गड्ढों को भरने के लिए कहा गया है, जिसकी वजह से दिल्ली में काफी वायु प्रदूषण में होता है

राजधानी दिल्ली के 300 किमी की परिधि में 11 थर्मल पावर प्लांट हैं; इन प्लांट्स को अपने प्लान्ट से पैदा होने वाले धुँए और प्रदूषण को कम करना होगा.।

Comments

Popular posts from this blog

अटल टनल हिमाचल प्रदेश

भारत के इन 8 बीचों को मिला ब्लू फ्लैग टैग